मेरे बेटे की नींद की दवाइयाँ छूटीं : बहुत अच्छा संस्थान आयुष ग्राम चित्रकूट !!


आयुष के ऐसे हैं प्रभाव!!
आयुर्वेद उपचार से लाखों बच्चों को बचाया जा सकता है इन्हेलर और दमा से आयुर्वेद का मतलब महान् समृद्धवैज्ञानिक और समूल रोगहारी चिकित्सा और स्वास्थ्य विज्ञान का आश्रय है।  ‘‘आज भारत के १० प्रतिशत शहरी बच्चे और किशोर दमा से ग्रस्त हैं और अंग्रेजी डॉक्टरों के पास कोई इसका समाधान नहीं। इन बच्चों और किशोरों की रोगप्रतिरोधक क्षमता घट रही है बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास नहीं हो पा रहाफेंफड़े कमजोर हो रहे हैं।’’ किन्तु भारत का दुर्भाग्य है कि मानव आयुर्वेद का लाभ नहीं उठा पा रहा। पर अब समय आ गया है कि मानवता की सेवा हेतु सभी आगे आयें आयुर्वेद की ओर सभी को प्रेरित करें। इस प्रकार दमाश्वासइन्हेलर के चंगुल में फँसे प्रतिवर्ष हजारों बच्चों और किशोर-किशोरियों को ‘आयुष ग्राम’ चित्रकूट मुक्त कर पा रहा है।

डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
संस्थाध्यक्षआयुष ग्राम (ट्रस्ट) चित्रकूटधाम (उ.प्र.) २१०२०५
Evidence based treatment (वैज्ञानिक प्रमाण युक्त चिकित्सा)

स्वप्निल जायसवाल साथ में पिता उदय शंकर जायसवाल सेवा निवृत्त पुलिस उपमहानिरीक्षक (उ॰प्र॰पु॰)

➡️    मैं उदयशंकर जायसवाल सेवा निवृत्त पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) उ.प्र. से हूँ, मेरा बेटा स्वप्निल (३१ वर्ष) उसे लेकर बहुत परेशान थे, उसे कई सालों से थायरॉयड व नींद न आने की शिकायत, जुकाम बना रहना आदि समस्यायें थी उसे अंग्रेजी दवा देनी पड़ती थी। हमने, इसका इलाज दिल्ली, पीजीआई लखनऊ आदि सब जगह कराते रहे। उसकी दवायें कहाँ-कहाँ नहीं करायी। १४ सालों से सर्दी-जुकाम, खाँसी जल्दी-जल्दी हो जाता था, जब दवा देते थे तो दिनभर आलस्य में रहते थे, दिनभर सोते थे, रात में अपने आप से बातें किया करते थे, शिर दर्द बना ही रहता था। चिड़चिड़ापन, गुस्सा होना, मोटापा बढ़ना ऐसी समस्यायें थीं।

➡️    कई सालों से अंग्रेजी दवा ले रहे थे, लेकिन कोई आराम नहीं मिल पा रहा था, उसका पूरा कैरियर ही नष्ट हो रहा था। जब मैं एस.पी. पद पर बाँदा में कार्यरत था उसी दौरान डॉक्टर वाजपेयी जी से परिचय हुआ। उनके लड़के और बहु भी एम.डी. (आयु.) हैं। दिव्य चिकित्सा भवन, पनगरा, बाँदा के बारे में अच्छे से पता था और वहाँ हम आते-जाते भी थे।  बाद में इनके संस्थान चित्रकूट आयुष ग्राम सूरजकुण्ड रोड की जानकारी हुयी।


➡️     मैं ८ जनवरी २०२१ को पत्नी बेटे सहित आयुष ग्राम चित्रकूट पहुँच गया। वहाँ बेटे सहित रह गये। यहाँ संस्थान अस्पताल जैसा तो लगता नहीं, एकदम खुला, शांत, स्वच्छ, अनुशासन और तप तथा साधना का वातावरण। बहुत अच्छा लगता है। पूरा भारतीय संस्कार, संस्कृति, जमीन में बैठकर भोजन करना, सुबह नित्य गीता व्याख्यान, गुरुकुल के विद्यार्थियों, आचार्यों द्वारा वेद पाठ, टहलती गायों से पवित्र भूमि।

     चिकित्सा शुरू हो गयी, दवाइयाँ, पंचकर्म भी। खान-पान सात्विक हुआ।

➡️    मेरी पत्नी श्रीमती बीना जायसवाल को उच्चरक्तचाप की अंग्रेजी दवा लेने की जरूरत पड़ती थी, तो २ सप्ताह में उनका भी ब्लड प्रेशर नार्मल रहने लगा, उनको दवा की जरूरत नहीं पड़ने लगी।

➡️    बेटे की भी धीरे-धीरे सारी अंग्रेजी दवायें (नींद, डिप्रेशन आदि की) बन्द हो गयीं। उसके चेहरे में रौनक आ गयी।

➡️     इन १५ दिनों में दोनों लोगों को काफी आराम मिल गया। अब वह अच्छे से सो पाने लगा और सिरदर्द में भी आराम हुआ, रात में जो सोते समय बाते करते रहते थे वह २ दिनों से बिल्कुल बन्द हो गये। अंग्रेजी दवा एल्प्राक्स आदि सब बन्द हो गयीं।

            हम कितने खुश हैं बता नहीं सकते कि जो अपने बेटे स्वप्निल को लेकर कई जगह परेशान रहे, फिर भी आराम नहीं मिल पा रहा था, वहीं २ सप्ताह में थायरॉयड की दवा भी ५० एमजी से २५ एमजी हो गयी और बाकी अंग्रेजी दवायें भी बन्द हो गयीं। यहाँ के पूरे स्टाफ का व्यवहार व अपनापन, यहाँ का वातावरण तो और किसी अस्पताल में कभी देखने को नहीं मिला।

उदय शंकर जायसवाल आई॰पीएस

सेवा निवृत्त पुलिस उपमहानिरीक्षक (उ॰प्र॰पु॰),

ए-१/६, रश्मि खण्ड शारदा नगर, लखनऊ (उ.प्र.)

डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी एक प्रख्यात आयुर्वेद विशेषज्ञ हैं। शास्त्रीय चिकित्सा के पीयूष पाणि चिकित्सक और हार्ट, किडनी, शिरोरोग (त्रिमर्म), रीढ़ की चिकित्सा के महान आचार्य जो विगड़े से विगड़े हार्ट, रीढ़, किडनी, शिरोरोगों को शास्त्रीय चिकित्सा से सम्हाल लेते हैं । आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूटधाम, दिव्य चिकित्सा भवन, आयुष ग्राम मासिक, चिकित्सा पल्लव और अनेकों संस्थाओं के संस्थापक ।

इनके शिष्यों, छात्र, छात्राओं की लम्बी सूची है । आपकी चिकित्सा व्यवस्था को देश के आयुष चिकित्सक अनुसरण करते हैं ।
डॉ. अर्चना वाजपेयी

डॉ. अर्चना वाजपेयी एम.डी. (मेडिसिन-आयु.) में हैं आप स्त्री – पुरुषों के जीर्ण, जटिल रोगों की चिकित्सा में विशेष कुशल हैं । मृदुभाषी, रोगी के प्रति करुणा रखकर चिकित्सा करना उनकी विशिष्ट शैली है । लेखन, अध्ययन, व्याख्यान, उनकी हॉबी है । आयुर्वेद संहिता ग्रंथों में उनकी विशेष रूचि है ।

आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूट द्वारा संचालित
   
आयुष ग्राम चिकित्सालय:चित्रकूट 
   मोब.न. 9919527646, 8601209999
 website: www.ayushgram.org



  डॉ मदन गोपाल वाजपेयी         आयुर्वेदाचार्यपी.जी. इन पंचकर्मा (V.M.U.) एन.डी.साहित्यायुर्वेदरत्न,विद्यावारिधि (आयुर्वेद)एम.ए.(दर्शन),एम.ए.(संस्कृत), एल-एल.बी. (B.U.)
 प्रधान सम्पादक चिकित्सा पल्लव और आयुष ग्राम मासिक
पूर्व उपा. भारतीय चिकित्सा परिषद
उत्तर प्रदेश शासन 

डॉ परमानन्द वाजपेयी                                                एम.डी. (एस.&पी.मेडिसिन-आयु0)    
                             
डॉ अर्चना वाजपेयी                              एम.डी.(कायचिकित्सा-आयुर्वेद) 

Post a Comment

0 Comments