मेरे पिता आयुष कार्डियोलॉजी से बच गये बाईपास सर्जरी से !!



जानकारी सभी तक पहुँचायें-
 अभी तक एलोपैथिक अस्पताल हार्ट रोगियों को केवल बाईपास सर्जरी या स्टेंट का ही विकल्प देते थेकिन्तु अब आयुष ग्राम ट्रस्ट की आयुष कार्डियोलॉजी, बिना ऑपरेशन बिना स्टेंट हार्ट रोगियों को अच्छा समाधान प्रदान कर रही है। आप सभी का पावन कर्तव्य बनता है कि इस बात की जानकारी जन-जन तक तक पहुँचायें। यदि हम आप सबके सहयोग से हार्ट रोगियों को बाईपास या स्टेंट से बचा ले जाते हैं तो मानव की बहुत बड़ी सेवा होगी। क्योंकि स्टेंट और बाईपास सर्जरी के बाद भी मौतें भी हार्ट अटैक से हो रही हैं। जबकि आयुष कार्डियोलॉजी से उपचारित एक भी रोगी की मौत हार्ट अटैक से नहीं हुयी। आप सभी के सहयोग से देश के सभी लोगों को बाईपास सजरी या स्टेंट से बचाया जा सकता है।

डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
संस्थाध्यक्षआयुष ग्राम (ट्रस्ट) चित्रकूटधाम (उ.प्र.) २१०२०५
Evidence based treatment (वैज्ञानिक प्रमाण युक्त चिकित्सा)
रियाज़ अहमद साथ में उनका लड़का 

            मेरे पिता जी रियाज अहमद, उम्र ५५ साल, उन्हें २ साल पहले खेतों में काम करते समय सीने में दर्द व जलन होने लगी, खेत से घर आने तक में समस्या हो गयी। गाँव के कुछ लोगों ने घर पर खबर की तो हम लोग उन्हें घर ले आये और वहीं गाँव के ही डॉक्टर को दिखाया, उन्होंने इंजेक्शन और कुछ अंग्रेजी दवायें दीं, उतने समय तो कुछ देर के लिए आराम हो गया लेकिन जब तक दवा खाते तब तक आराम रहता।


            एक दिन अचानक फिर से बहुत तेज सीने में दर्द व जलन होने लगी, तो मैं उन्हें कानपुर के अंग्रेजी कार्डियोलॉजी में ले गये। कानपुर के डॉक्टर ने सारी समस्यायें पूछीं व देखीं फिर १ सप्ताह की अंग्रेजी दवायें दीं, मैं दवा लेकर घर आ गया। घर पर दवायें खाते रहे लेकिन जितने दिन दवायें खाते जब तक आराम रहता। मैंने कानपुर का ४ माह इलाज करवाया, लेकिन ज्यादा आराम न होने पर डॉक्टर ने एंजियोग्राफी जाँच के लिए बोले। मैंने अपने पिता जी की एंजियोग्राफी जाँच करवाई, जाँच आने के बाद डॉक्टर ने बताया कि आपके अब्बू के हार्ट में ९५ %, ९५ %, ८० % तीन ब्लॉकेज हैं, सिर्फ २० % नली खुला है। मैंने उपाय पूछा तो उन्होंने बताया कि बिना बाईपास सर्जरी के कभी ठीक नहीं हो सकते और आपको जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी बाईपास सर्जरी करवा लीजिए। मेरे पास सर्जरी के लिए इतने पैसे न होने के कारण कुछ दिन बाद आने को कहकर घर आ गया।


            तभी मुझे मेरे ही एक रिश्तेदार जो मेरे बहनोई हैं, अव अपना किडनी का इलाज आयुष ग्राम ट्रस्ट चिकित्सालय, चित्रकूट से करवा रहे हैं उनके द्वारा आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूट की आयुष कार्डियोलॉजी के बारे में पता चला। मैं अपने पिता जी को और अपने बहनोई जी के साथ दूसरे दिन ही आयुष ग्राम ट्रस्ट चिकित्सालय, चित्रकूट पहुँचा। वहाँ पर मेरा रजिस्ट्रेशन हुआ फिर मेरा नम्बर आने पर मुझे हार्ट, किडनी, रीढ़, शिरो रोग की ओपीडी-२ में डॉक्टर वाजपेयी साहब के पास बुलाया गया, उन्होंने सारी समस्यायें पूछीं और नाड़ी देखी, रोगी को देखा और बोले कि आप परेशान न हों आपको कोई बाईपास सर्जरी व अंग्रेजी दवाओं की जरूरत नहीं पड़ेगी बिल्कुल स्वस्थ हो जायेंगे।


            हम यहाँ पिता जी को लेकर १० दिन भर्ती रहे। जिस दिन यहाँ पर भर्ती हुये उस दिन सीरम कोलेस्ट्राल २२१.६, ट्राइग्लिसराइड ३४७.४ यानी नार्मल से दुगना अधिक, वीएलडीएल कोलेस्ट्राल ६८.४८ था। उन्हें सीने में दर्द व जलन रहती थी, एक भी कदम चलने पर बहुत ज्यादा जलन होने लगती थी, चक्कर आना, घबराहट बनी रहती थी और परेशान रहते थे और अब यहाँ १० दिन की चिकित्सा के बाद आज इन सभी समस्याओं में आराम मिल गया न घबराहट, न जलन, न चक्कर, न साँस फूलना सब ठीक हो गया और जब खून की जाँच करायी तो १० दिन में ही सीरम कोलेस्ट्राल २२१.६ से घटकर १६२.९ एमजी/डीएल, ट्राइग्लिसराइड ३४७.४ से घटकर ११७.६ और वीएलडीएल कोलेस्ट्राल ६८.४८ से घटकर २३.५२ हो गया।

आयुष ग्राम चिकित्सालय में भर्ती हुए उस दिन की रिपोर्ट
10 दिन की चिकित्सा के बाद की रिपोर्ट

SERUM CHOLESTEROL
221.6 mg/dl
SERUM TRIGLYCERIDE
347.4 mg/dl
VLDL CHOLESTEROL
69.48 mg/dl

SERUM CHOLESTEROL
162.9 mg/dl
SERUM TRIGLYCERIDE
117.6 mg/dl
VLDL CHOLESTEROL
23.52 mg/dl


         मैं बहुत खुश हूँ कि मेरे पिता जी को २ साल की समस्या थी और कहीं अंग्रेजी अस्पतालों में आराम नहीं मिल रहा सब बाईपास सर्जरी बता रहे थे तथा जिन लोगों ने बाईपास सर्जरी करायी वे बता रहे थे कि उनका जीवन भी गड़बड़ रहता है, सेहत ठीक नहीं रहती, शरीर बेकाम सा रहता है। बाईपास और स्टेंट के बाद भी हार्ट अटैक से मौतें होते देखी जा रही हैं। किन्तु आज मेरे पिता जी बिना ऑपरेशन व बिना अंग्रेजी दवाओं के आयुष ग्राम चित्रकूट की आयुष कार्डियोलॉजी से स्वस्थ हैं। मैं और मेरा पूरा परिवार बहुत खुश है। मैं कहता हूँ कि यदि किसी को ऐसी दिक्कत आये तो बाईपास ऑपरेशन से बचें।

रेयासत अहमद पुत्र श्री रियाज अहमद  
मोहम्मदाबाद, (खागा), जिला- फतेहपुर (उ.प्र.)


डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी एक प्रख्यात आयुर्वेद विशेषज्ञ हैं। शास्त्रीय चिकित्सा के पीयूष पाणि चिकित्सक और हार्ट, किडनी, शिरोरोग (त्रिमर्म), रीढ़ की चिकित्सा के महान आचार्य जो विगड़े से विगड़े हार्ट, रीढ़, किडनी, शिरोरोगों को शास्त्रीय चिकित्सा से सम्हाल लेते हैं । आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूटधाम, दिव्य चिकित्सा भवन, आयुष ग्राम मासिक, चिकित्सा पल्लव और अनेकों संस्थाओं के संस्थापक ।

इनके शिष्यों, छात्र, छात्राओं की लम्बी सूची है । आपकी चिकित्सा व्यवस्था को देश के आयुष चिकित्सक अनुसरण करते हैं ।
डॉ. अर्चना वाजपेयी

डॉ. अर्चना वाजपेयी एम.डी. (मेडिसिन आयु.) में हैं आप स्त्री – पुरुषों के जीर्ण, जटिल रोगों की चिकित्सा में विशेष कुशल हैं । मृदुभाषी, रोगी के प्रति करुणा रखकर चिकित्सा करना उनकी विशिष्ट शैली है । लेखन, अध्ययन, व्याख्यान, उनकी हॉबी है । आयुर्वेद संहिता ग्रंथों में उनकी विशेष रूचि है ।

आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूट द्वारा संचालित
   
आयुष ग्राम चिकित्सालय:चित्रकूट 
   मोब.न. 9919527646, 8601209999
 website: www.ayushgram.org



  डॉ मदन गोपाल वाजपेयी         आयुर्वेदाचार्यपी.जी. इन पंचकर्मा (V.M.U.) एन.डी.साहित्यायुर्वेदरत्न,विद्यावारिधि (आयुर्वेद)एम.ए.(दर्शन),एम.ए.(संस्कृत), एल-एल.बी. (B.U.)
 प्रधान सम्पादक चिकित्सा पल्लव और आयुष ग्राम मासिक
पूर्व उपा. भारतीय चिकित्सा परिषद
उत्तर प्रदेश शासन 
                                  
डॉ अर्चना वाजपेयी                              एम.डी.(कायचिकित्सा) आयुर्वेद 

डॉ परमानन्द वाजपेयी                                                                   आयुर्वेदाचार्य



डॉ आर.एस. शुक्ल                                                                           आयुर्वेदाचार्य 


Post a Comment

0 Comments