सूजन मिटी, किडनी, लिवर काम करने लगा, नया जीवन मिला १५ दिन में !!


मैं बिजली विभाग में कार्यरत हूँ। मैं शुरू से शराब का लती थामैं बहुत शराब पीता था शायद इसी कारण से मुझे १ साल पहले बीपी की समस्या हो गयीमुझे घबराहटबेचैनी होने लगती थी तो मैं वहीं लखीमपुर खरीर के डॉक्टर को दिखाकर बीपी की अंग्रेजी दवा खाने लगा।
मंगूलाल 

            
तभी अचानक एक दिन मेरे पूरे शरीर में पीलापन आ गयाआँखें भी एकदम पीली हो गईपूरे शरीर में सूजन भी आने लगी मुझे भूख बिल्कुल नहीं लगी। मेरे घर के लोग घबराकर मुझे लखीमपुर खीरी के डॉ. मिश्रा को दिखायाउन्होंने कुछ जाँचें लिखींजाँच आने के बाद उन्होंने मुझे बताया कि मुझे पीलिया हो गया हैमुझे लीवर की समस्या है। मैंने २ माह तक इलाज करवाया लेकिन कोई आराम नहीं मिलने पर मैंने दूसरे डॉक्टर को दिखाया२ माह में मुझे और समस्या होने लगीमेरी लेट्रीन से ब्लड (खून) आने लगा और मेरे पूरे शरीर में बहुत ज्यादा सूजन आ गयीमैं इतना कमजोर हो गया था कि बिना सहारे के चलना मुश्किल हो गया था और खून भी बहुत कम हो जिससे २ यूनिट ब्लड भी चढ़वाना पड़ा। मुझे कोई दवाओं से कुछ आराम नहीं मिला। फिर मैं लखनऊ के डॉ.एन.के. मिश्रा को दिखाया उन्होंने कुछ किडनी के लिए जाँचें करवायीं। जाँच आने के बाद उन्होंने बताया कि किडनी में इंफेक्शन हो गया है। मैंने एन.के. मिश्रा जी से ३ माह इलाज करवायालेकिन किडनी में तो आराम मिलाइंफेक्शन तो कम हुआ पर किसी चीज में आराम नहीं मिला।

आयुष ग्राम चिकित्सालय में चिकित्सा के पूर्व की रिपोर्ट : 




            मैं बहुत परेशान हो गयाइधर-उधर डॉक्टरों को दिखाता घूमता रहा लेकिन कहीं मुझे आराम नहीं मिला। मैं फिर से लखनऊ के ही डॉ. संजय उसवानी जी को दिखाया उनसे भी मुझे कोई आराम नहीं मिला। मैं अंग्रेजी दवायें खाते-खाते परेशान हो गया। मैं हारकर सब जगह से घर आ गया और अपने यहाँ के ही सरकारी अस्पताल में भर्ती हो गया। वहाँ मैं ६ दिन भर्ती रहा लेकिन वहाँ से भी कोई आराम नहीं मिलाब्लड कम होता चला जा रहा था और मेरे पेट में पानी भरने लगा। तभी मुझे अपने यहाँ के एक एलोपैथ डॉक्टर के द्वारा आयुष ग्राम (ट्रस्ट) चिकित्सालयचित्रकूट से अपना इलाज करवा रहे हैं पता चला।
            मैं तुरन्त दूसरे दिन ही आयुष ग्राम (ट्रस्ट) चिकित्सालयचित्रकूट जाने के लिए तैयारी की और पहुँचा। वहाँ मेरा रजिस्ट्रेशन हुआनम्बर आने पर डॉक्टर साहब के पास बुलाया गयाउन्होंने सारी रिपोर्ट्स देखीं और बोले कि आप परेशान न होंसब ठीक होगा। उन्होंने जाँच लिखी और जाँच आने के बाद फिर से उनके पास बुलाया गया। उन्होंने मुझसे कहा कि आप १५ दिन रुकने और पंचकर्म थैरेपीदवाओं की सलाह दी।
            सच में जैसा उन्होंने कहा था वैसा ही हुआ। १५ दिनों में मुझे बहुत आराम मिला-
 मेरी सूजन बिल्कुल चली गयी
 शरीर का पीलापन भी दूर हो गया
खून चढ़वाने की जरूरत नहीं पड़ी पेट की भी समस्या दूर हो गयी
 मैं बिना सहारे के चलने लगा
 मेरी अंग्रेजी दवायें सारी बन्द हो गयीं। मुझे इस समय ८५ % से ज्यादा आराम है।

आयुष ग्राम चिकित्सालय में चिकित्सा के बाद की रिपोर्ट : 




            मैं यह सब देखकर कि जो मैं इतनी अंग्रेजी दवाओं और अंग्रेजी डॉक्टरों को दिखाने के बाद भी बिल्कुल भी ठीक नहीं हो पा रहा था और मेरी बीमारी बढ़ती जा रही थी वह सिर्फ  १५ दिन में आयुष चिकित्सा से मैं इतना स्वस्थ्य महसूस कर रहा हूँमुझे खुद पर विश्वास नहीं हो पा रहा है। मेरा परिवार इस संस्थान का आभारी है तथा सभी को सलाह देता है कि मेरी तरह कोई भी पीड़ित हो तो आयुष ग्राम चित्रकूट से लाभ उठायें।



मंगूलाल

ग्राम- मथना, पोस्ट- मिदनिया  
जिला- लखीमपुर खीरी (उ.प्र.)



सम्पद्विपत्स्वेकमना, हेतावीष्र्येत्फले न तु ।।
अ.ह्र.सू. २/२५

सम्पत्ति (सुख) एवं विपत्ति (दुःख) में एक समान रहना चाहिए । जिन कारणों से किसी व्यक्ति की उन्नति हुई हो उसकी खोज करके उन कारणों पर ईर्ष्या करनी चाहिए  किसी की उन्नति पर ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए ।।


डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी एक प्रख्यात आयुर्वेद विशेषज्ञ हैं। शास्त्रीय चिकित्सा के पीयूष पाणि चिकित्सक और हार्ट, किडनी, शिरोरोग (त्रिमर्म), रीढ़ की चिकित्सा के महान आचार्य जो विगड़े से विगड़े हार्ट, रीढ़, किडनी, शिरोरोगों को शास्त्रीय चिकित्सा से सम्हाल लेते हैं । आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूटधाम, दिव्य चिकित्सा भवन, आयुष ग्राम मासिक, चिकित्सा पल्लव और अनेकों संस्थाओं के संस्थापक ।


इनके शिष्यों, छात्र, छात्राओं की लम्बी सूची है । आपकी चिकित्सा व्यवस्था को देश के आयुष चिकित्सक अनुशरण करते हैं ।


डॉ. अर्चना वाजपेयी

डॉ. अर्चना वाजपेयी एम.डी. (मेडिसिन आयु.) में हैं आप स्त्री – पुरुषों के जीर्ण, जटिल रोगों की चिकित्सा में विशेष कुशल हैं । मृदुभाषी, रोगी के प्रति करुणा रखकर चिकित्सा करना उनकी विशिष्ट शैली है । लेखन, अध्ययन, व्याख्यान, उनकी हॉबी है । आयुर्वेद संहिता ग्रंथों में उनकी विशेष रूचि है ।


आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूट द्वारा संचालित
   
आयुष ग्राम चिकित्सालय:चित्रकूट 
   मोब.न. 9919527646, 8601209999
 website: www.ayushgram.org



  डॉ मदन गोपाल वाजपेयी        आयुर्वेदाचार्यपी.जी. इन पंचकर्मा (V.M.U.) एन.डी.साहित्यायुर्वेदरत्न,विद्यावारिधि (आयुर्वेद)एम.ए.(दर्शन),एम.ए.(संस्कृत )
 प्रधान सम्पादक चिकित्सा पल्लव
                                  
डॉ अर्चना वाजपेयी                              एम.डी.(कायचिकित्सा) आयुर्वेद 

डॉ परमानन्द वाजपेयी                                                                   आयुर्वेदाचार्य



डॉ आर.एस. शुक्ल                                                                           आयुर्वेदाचार्य 

Post a Comment

0 Comments