हार्ट की सर्जरी/स्टेंट/पेसमेकर से बचा : आयुष कार्डियोलॉजी चित्रकूट से!!

श्री मुलायम सिंह जी 


मेरा नाम मुलायम सिंह है
, मेरी उम्र ६८ वर्ष है। मैं एक रिटायर्ड अध्यापक हूँ। मैं सन् २०१२ में एक दिन कपड़े साफ करते हुए पीछे की तरफ गिर गया और २ सेकेण्ड के लिए बेहोश हो गया। आस-पास के लोगों ने मुझे उठाकर लिटाया। फिर अगले माह मैं दुबारा बेहोश हो गया, २ सेकेण्ड में होश आया। मैं झाँसी के मेडिकल कॉलेज गया, वहाँ पर डॉ.कनकने को दिखाया उन्होंने ईसीजी करवायी और अंग्रेजी दवायें दीं, कहा आपको पूरी जिन्दगी दवायें खाना होगा। मैंने ७ माह तक दवा खायी। पर मेरी बेहोशी का समय घटने के बजाय बढ़ने लगा, पहले १ माह में बेहोश होते थे अब १ माह में २-३ बार बेहोश होने लगा। मैं परेशान होकर झाँसी का इलाज बन्द कर दिया और मैं लखनऊ पीजीआई चला गया, वहाँ डॉक्टर ने मेरी फिर से जाँच करवायी और रिपोर्ट आने के बाद मुझसे बोले कि आपकी नसों में ब्लॉकेज हैं, हार्ट की पम्पिंग कम है, आपको बाईपास सर्जरी कराना होगा या स्टेंट डलवाना पड़ेगा। मैंने पूछा कि क्या ऑपरेशन के बाद फिर ब्लॉकेज नहीं होंगे तो वे बोले कि फिर ब्लॉकेज हो सकते हैं। मैंने कुछ दिन की अंग्रेजी दवायें लिया और घर आ गया। मेरा ५ माह इलाज चला लेकिन कोई आराम नहीं हुआ और सोचा कि एक बार दिल्ली (एम्स) में भी दिखवा लूँ। मैं दिल्ली (एम्स) गया, वहाँ भी जाँचें हुयीं और जाँच आने के बाद कहा कि आपको पेसमेकर लगवाना पड़ेगा, नहीं तो अटैक जैसी समस्या भी आ सकती है। यह सुनकर मैं बहुत परेशान हो गया और वापस घर आ गया।



            तभी मुझे किसी ने आयुष ग्राम (ट्रस्ट), चित्रकूट की आयुष कार्डियोलॉजी के बारे में बताया कि आपको यहाँ से बिना ऑपरेशन, बिना स्टेंट के राहत मिलेगी। हर माह सैकड़ों लोग बच रहे हैं। अब मैं नवम्बर २०१८ को श्रीराम जी की तपोभूमि चित्रकूट में आयुष ग्राम चिकित्सालय, चित्रकूट पहुँचा। मेरा रजिस्ट्रेशन करवाया गया, फिर मेरा नम्बर आने पर मुझे हार्ट, किडनी, रीढ़ आदि के विभाग की ओपीडी-२ में डॉ. मदनगोपाल वाजपेयी के पास बुलाया गया। उन्होंने मेरी सारी समस्यायें सुनी और रिपोर्ट्स देखीं, नाड़ी परीक्षण करने के बाद उन्होंने पूरे विश्वास के साथ मुझसे बोले कि आप बिल्कुल परेशान न हों, मैं आपको बिना ऑपरेशन, पेसमेकर, बाईपास सर्जरी/स्टेंट डलवाये पूर्णत: स्वस्थ करूँगा। आपको लगकर १२-१३ माह दवा करनी पड़ेगी। उनकी बात सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा, मेरा डर खत्म हुआ। मुझे १० दिन की कुछ थैरेपी दी गयीं और १ माह की दवा दी गयीं।



            मैं १ माह की दवायें लेकर और परहेज समझकर घर आ गया और समय से दवायें खायीं। मुझे पहले माह में ही आराम मिलना शुरू हो गया, मेरी बेहोशी बन्द हो गयी। आज मुझे १२ माह हो गये आयुष ग्राम चित्रकूट की दवा करते अब मैं पूर्णत: ठीक हूँ। मुझे कोई बेहोशी नहीं आयी। इस बार तो उन्होंने बिल्कुल नाममात्र की दवायें दीं और कहा कि यह भी जल्द बन्द हो जायेंगी।



            मेरी सारी अंग्रेजी दवायें पहले माह से ही बन्द हो गयीं थीं। मैं चीड़-फाड़ और इतने पैसों के बर्बादी से बच गया और मैं तो सभी को कहता हूँ कि अगर अंग्रेजी अस्पताल या डॉक्टर हार्ट के ऑपरेशन या स्टेंट की बात करें तो पहले आप आयुष कार्डियोलॉजी चित्रकूट जायें, आप भी स्टेंट/ऑपरेशन/पेसमेकर से बचेंगे। मेरी तरह आपको भी आराम मिलेगा, ऐसा विश्वास है।




 आपका
मुलायम सिंह
मुडारा निवाड़ी, (टीकमगढ़) म.प्र.


डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी
डॉ. मदन गोपाल वाजपेयी एक प्रख्यात आयुर्वेद विशेषज्ञ हैं। शास्त्रीय चिकित्सा के पीयूष पाणि चिकित्सक और हार्ट, किडनी, शिरोरोग (त्रिमर्म), रीढ़ की चिकित्सा के महान आचार्य जो विगड़े से विगड़े हार्ट, रीढ़, किडनी, शिरोरोगों को शास्त्रीय चिकित्सा से सम्हाल लेते हैं । आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूटधाम, दिव्य चिकित्सा भवन, आयुष ग्राम मासिक, चिकित्सा पल्लव और अनेकों संस्थाओं के संस्थापक ।



इनके शिष्यों, छात्र, छात्राओं की लम्बी सूची है । आपकी चिकित्सा व्यवस्था को देश के आयुष चिकित्सक अनुशरण करते हैं ।


धारयेत्सततं रत्नसिद्धमन्त्रमहौषधी: ।।
अ.ह्र.सू. २/३१
रत्न, बला, अतिबला, अपराजिता, आदि सिद्धमंत्र तथा महौषधि सहदेवी आदि को बाहु अथवा ग्रीवा में निरन्तर धारण करें ।

डॉ. अर्चना वाजपेयी

डॉ. अर्चना वाजपेयी एम.डी. (मेडिसिन आयु.) में हैं आप स्त्री – पुरुषों के जीर्ण, जटिल रोगों की चिकित्सा में विशेष कुशल हैं । मृदुभाषी, रोगी के प्रति करुणा रखकर चिकित्सा करना उनकी विशिष्ट शैली है । लेखन, अध्ययन, व्याख्यान, उनकी हॉबी है । आयुर्वेद संहिता ग्रंथों में उनकी विशेष रूचि है ।


आयुष ग्राम ट्रस्ट चित्रकूट द्वारा संचालित
   
आयुष ग्राम चिकित्सालय:चित्रकूट 
   मोब.न. 9919527646, 8601209999
 website: www.ayushgram.org



  डॉ मदन गोपाल वाजपेयी        आयुर्वेदाचार्यपी.जी. इन पंचकर्मा (V.M.U.) एन.डी.साहित्यायुर्वेदरत्न,विद्यावारिधि (आयुर्वेद)एम.ए.(दर्शन),एम.ए.(संस्कृत )
 प्रधान सम्पादक चिकित्सा पल्लव
                                  
डॉ अर्चना वाजपेयी                              एम.डी.(कायचिकित्सा) आयुर्वेद 

डॉ परमानन्द वाजपेयी                                                                   आयुर्वेदाचार्य



डॉ आर.एस. शुक्ल                                                                           आयुर्वेदाचार्य 

Post a Comment

0 Comments