‘दृष्टि’ के २५वें स्थापना दिवस में मुख्य अतिथि डॉ. मदनगोपाल वाजपेयी जी द्वारा दिया गया उद्वोधन


नेत्रहीनों के विकासार्थ समर्पित सामाजिक संस्थान दृष्टिका २५वाँ स्थापना दिवस समारोह दिनांक १५ अक्टूबर २०१९ को सायंकाल ५ बजे अत्यन्त उत्साह एवं उल्लास पूर्वक, धूपधाम से मनाया गया। संस्था के महासचिव एवं कार्यक्रम प्रभारी श्री शंकर लाल गुप्ता ने बताया कि श्री गोपाल जी की अध्यक्षता में यह कार्यक्रम देवपूजन एवं सरस्वती वन्दना के साथ आरम्भ हुआ तथा कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, आयुष ग्राम ट्रस्ट, चित्रकूट के संस्थापक डॉ. मदनगोपाल वाजपेयी ने की। 


मुख्य अतिथि डॉ. मदनगोपाल वाजपेयी को
सम्मानित करते डॉ. शिव शंकर शुक्ल जी  


                कार्यक्रम में आये हुये विद्वान वक्ताओं ने देश में नेत्रहीनों की वर्तमान स्थिति पर प्रकाश डालते हुये दृष्टिद्वारा गत २५ वर्षों से उनके उत्थान एवं विकास हेतु किये जा रहे सार्थक प्रयासों की सरहना की और आशा व्यक्त की कि दृष्टिइसी प्रकार दृष्टिहीनों के लिए निरन्तर कार्य करती रहेगी। 


मुख्य अतिथि के उद्बोधन में डॉ. मदनगोपाल वाजपेयी ने कहा :

 जिसके पास प्रज्ञा नही है वास्तव में वही दृष्टिबाधित है उन्होंने कहा कि जो राम कार्य कर रहा हो जो राम भक्त होगा वह सब कुछ कर सकता है उसके लिए कुछ भी नामुमकिन नही है



कार्यक्रम में, संस्था के संरक्षक श्री के.जी. गुप्ता, सचिव, बलवीर सिंह, कोषाध्यक्ष, श्री पी.डी. गुप्ता, संस्थापक सदस्य श्री जयश्री जोग, श्री निखिल तिवारी तथा श्री सुधीर अग्रवाल और श्री लल्लूराम शुक्ल की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।
                कार्यक्रम का संचालन विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती वर्षा गुप्ता ने किया तथा कार्यक्रम में आये हुये अतिथियों का संस्था के महासचिव श्री शंकर लाल गुप्ता ने आभार व्यक्त किया।

Post a Comment

0 Comments